मनोरंजन, समाचार और टेक्नोलॉजी

Editor's Picks

Nambi Narayanan Biography Book, Family, Case, Movie, Compensation

Nambi Narayanan Biography Book Family Case Movie

जानिये कौन हैं Nambi Narayanan और उनकी Biography, Book, Family, Son, Daughter, Case, Compensation और Movie के बारे में। 

Image Credits : BBC.com

Last Updated on: 2nd April 2021, 04:48 pm

जानिये कौन हैं Nambi Narayanan और उनकी Book , Biography , Family , Case , Compensation और Movie के बारे में।

Nambi Narayanan का जन्म 12 दिसंबर 1941 को तमिलनाडु के वर्तमान कन्याकुमारी जिले के नागरकोइल में एक मध्यमवर्गीय तमिल परिवार में हुआ था।  उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा भी वहीँ से पूरी की। उनका परिवार तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले के तिरुक्कुरुंगुडी गाँव  से था।

नंबी नारायणन एक मध्यम वर्गीय परिवार में पाँच लड़कियों के बाद जन्मा पहला लड़का था । उनके पिता एक व्यापारी थे जो नारियल गिरी और फाइबर का व्यापार करते थे। उनकी मां एक गृहिणी थी और बच्चों की देखभाल करती थीं।

Nambi Narayanan Education

युवा नंबी एक अच्छे छात्र थे और अपने कक्षा में हमेशा शीर्ष पर थे। स्कूल की पढाई पूरी करने के बाद वह एक इंजीनियरिंग स्कूल में गए और  एक डिग्री प्राप्त की। उसके बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO ) में काम करने से पहले कुछ समय के लिए एक चीनी कारखाने में काम किया।

nambi narayanan young

नंबी नारायणन ने पहली बार 1966 में इसरो के तत्कालीन अध्यक्ष विक्रम साराभाई से तिरुवनंतपुरम के थुम्बा इक्वेटोरियल रॉकेट लॉन्चिंग स्टेशन में मिले थे।  उस समय वह एक अन्य प्रसिद्ध वैज्ञानिक वाई.एस.राजन के साथ पेलोड इंटीग्रेटर के रूप में काम कर रहे थे । उस समय विक्रम साराभाई केवल उच्च योग्य पेशेवरों की भर्ती करते थे। नंबी हमेशा विक्रम साराभाई के साथ काम करना चाहते थे। इसी कारण नारायणन ने अपनी एमटेक की डिग्री के लिए तिरुवनंतपुरम में इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला लिया।

जब विक्रम साराभाई को यह बात पता चली तो उन्होंने नम्बी को उच्च शिक्षा के लिए छुट्टी देने की पेशकश की। उनकी एक शर्त थी की इसके बाद नम्बी किसी आइवी लीग विश्वविद्यालयों में दाखिला पाना होगा। नम्बी नारायणन ने बहुत मेहनत की और उन्होंने NASA की फेलोशिप अर्जित की और उन्हें  1969 में प्रिंसटन विश्वविद्यालय में स्वीकार कर लिया गया।

उन्होंने एक रिकॉर्ड दस महीने में प्रोफेसर लुइगी क्रोको के तहत रासायनिक रॉकेट प्रणोदन में अपने मास्टर कार्यक्रम को पूरा किया। अमेरिका में नौकरी की पेशकश के बावजूद, नारायणन एक ऐसे समय में तरल प्रणोदन में विशेषज्ञता के साथ भारत लौटे जब भारतीय रॉकेट अभी भी पूरी तरह से ठोस प्रणोदकों पर निर्भर था।

इसरो में श्री नारायणन ने भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के दिग्गजों के साथ काम किया जिनमें इसरो के संस्थापक विक्रम साराभाई, सतीश धवन, और अब्दुल कलाम जैसे वैज्ञानिक, जो बाद में भारत के 11 वें राष्ट्रपति बने।

जब नम्बी नारायणन ने इसरो के साथ काम करना शुरू किया, तो अंतरिक्ष संगठन अपनी प्रारंभिक अवस्था में था। उनके  पास वास्तव में किसी भी रॉकेट सिस्टम को विकसित करने की योजना नहीं थी और वे अमेरिका और फ्रांस से रॉकेट का उपयोग पर निर्भर थे। लेकिन उसके बाद नम्बी भारत में ही बने हुए राकेट को विकसित करने की परियोजना में एक प्रमुख व्यक्ति बन गए।

उन्होंने एक वैज्ञानिक के रूप में बहुत परिश्रम किया लेकिन नवंबर 1994 में उनके जीवन को उलट कर रख दिया।

Nambi Narayanan Biography Book, Family, Case, Movie, Compensation

Nambi Narayanan Case

1994 में, नारायणन पर दो कथित मालदीव खुफिया अधिकारियों, मरियम राशीदा और फौज़िया हसन के लिए महत्वपूर्ण रक्षा दस्तावेजों को लीक करने का आरोप लगाया गया था। रक्षा अधिकारियों ने कहा कि दस्तावेज रॉकेट और उपग्रह प्रक्षेपण के प्रयोगों से अत्यधिक गोपनीय “उड़ान परीक्षण डेटा” से संबंधित हैं। नारायणन और डी शशिकुमारनपर लाखों के लिए राज़ बेचने का आरोप था।

नारायणन को गिरफ्तार कर लिया गया और 48 दिन जेल में बिताने पड़े। उनका दावा है कि इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारी, जो उनसे पूछताछ कर रहे थे , वे चाहते थे कि वे इसरो के शीर्ष अधिकारियों के खिलाफ झूठे आरोप लगाए । उन्होंने आरोप लगाया कि आईबी के दो अधिकारियों ने उन्हें उनके बॉस A. E. Muthunayagam को फ़साने के लिए भी कहा । जब उन्होंने इस बात को मानने से इनकार कर दिया, तो उसे तब तक तड़पाया गया जब तक कि वह गिर नहीं गए।  इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया।

उनका कहना है कि इसरो के खिलाफ उनकी मुख्य शिकायत यह है कि इसरो ने उनका समर्थन नहीं किया। कृष्णस्वामी कस्तूरीरंगन, जो उस समय ISRO के अध्यक्ष थे, ने कहा कि ISRO एक कानूनी मामले में हस्तक्षेप नहीं कर सकता।

मई 1996 में, सीबीआई ने उन पर लगे आरोपों को खारिज कर दिया। अप्रैल 1998 में सुप्रीम कोर्ट ने भी उनके खिलाफ केस को बर्खास्त कर दिया । सितंबर 1999 में, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने केरल सरकार के अंतरिक्ष अनुसंधान में नारायणन के विशिष्ट कैरियर को नुकसान पहुंचाने के साथ सख्त शारीरिक और मानसिक यातना के निंदा की ।

Nambi Narayanan Compensation

2001 में, NHRC ने केरल सरकार को नम्बी नारायणन को 1 करोड़ का मुआवजा देने का आदेश दिया। वह 2001 में सेवानिवृत्त हुए। केरल उच्च न्यायालय ने सितंबर 2012 में NHRC इंडिया की एक अपील के आधार पर नंबी नारायणन को 10 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया।

Nambi Narayanan Movie : Rocketry: The Nambi Effect

अक्टूबर 2018 में R Madhavan द्वारा लिखित और सह-निर्देशित, Rocketry: The Nambi Effect नामक एक जीवनी फिल्म की घोषणा की गई थी। फिल्म का टीज़र 1 अप्रैल 2021 को रिलीज़ किया गया और फ़िल्म 2021 में रिलीज़ की जाएगी।

26 जनवरी 2019 को, उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

nambi narayanan padma bhushan award

Nambi Narayanan Autobiography / Book

उनकी आत्मकथा जिसका शीर्षक “Ormakalude bhramanapadham” 26 October 2017 को रिलीज़ हुई थी । पुस्तक 1990 के दशक की शुरुआत में इसरो जासूसी मामले से संबंधित है जिसमें नंबी नारायणन, पांच अन्य लोगों के साथ, केरल पुलिस और खुफिया विभाग द्वारा लगातार  सख्त शारीरिक और मानसिक यातना दी गयी थी, के बारे में थी।

nambi narayanan book ready to fire

अंग्रेजी में यह किताब “Ready to Fire ‘ शीर्षक के साथ छपी है जो ऑनलाइन भी उपलब्ध है।

Nambi Narayanan Biography

Name : Nambi Narayanan
Date of Birth:  12 December 1941
Age : 79 Years

Nambi Narayanan Family:
Wife: Meena Nambi Narayanan
Son: Sankara Kumar Narayanan (Businessman)
Daughter : Geeta Narayanan Arunan (School Teacher in Banglore)

Place of Birth: Nagercoil, Kanyakumari District, Tamil Nadu, India

Education : Princeton University (MSE) , Thiagarajar College of Engineering, Madurai (BE-Mechanical)
Occupation :  Scientist
Awards :  Padma Bhushan

Nambi Narayanan Facebook – https://www.facebook.com/nambi.narayanan.3975

 अगले पेज पर जाने के लिए नीचे अगले पेज नंबर को क्लिक करे। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करना न भूलें। ऐसी ही और मनोरंजन की खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें
IMPORTANT DISCLAIMER: THE MUSIC, IMAGE AND VIDEO REMAIN COPYRIGHT OF THEIR RESPECTIVE OWNERS AND ARE STRICTLY USED HERE ON YOUTUBE FOR REASONS AS WELL AS FOR THE ARTISTS PROMOTIONAL PURPOSES ONLY. THEREFORE, IF YOU OWN COPYRIGHT OVER ANY PART OF THESE MATERIALS AND DO NOT WISH TO SEE IT HERE, PLEASE CONTACT ME DIRECTLY AND I WILL REMOVE IT AS SOON AS POSSIBLE. THE ABOVE INFORMATION IS SOURCED FROM VARIOUS WEBSITES AND MEDIA REPORTS. OUR WEBSITE DOES NOT GUARANTEE 100% ACCURACY OF THE FIGURES MENTIONED. THANK YOU VERY MUCH IN ADVANCE FOR YOUR UNDERSTANDING.’’
100% LikesVS
0% Dislikes

Comments

0 comments

Powered by Facebook Comments

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

idharudharse.com is your one stop destination for all kinds of latest news from the Bollywood, Entertainment, Television, Books and much more.

We are adding new content everyday to keep you updated and entertained.

Proudly powered by Keyword Today

Copyright © 2020 IdharUdharSe

To Top
close
error: